Country & States देश-प्रदेश Latest ताज़ा खबर

झारखंड के वामपंथी प्रगतिशील तबके ने शहीद किसानों को दी श्रद्धांजलि

रांची,झारखण्ड 9 जनवरी 2021। आज गांधी प्रतिमा मोराबादी के समक्ष प्रगतिशील लेखक संघ (प्रलेस), जनसंस्कृति मंच झारखंड (जसम), जनवादी लेखक संघ (जलेस), भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा), अखिल भारतीय छात्र संघ (एआईएसएफ) के द्वारा किसान आंदोलन में अब तक शहीद हुए 60 आंदोलनकरियों को श्रद्धांजलि सभा की गई।

धरने के दौरान मृतक आन्दोलनकारी किसानों को श्रद्धांजलि देते हुए प्रगतिशील लेखक संघ के महासचिव डॉ मिथिलेश कुमार ने कहा कि इतनी ठंड में किसान भाइयों के चल रहे लगातार आंदोलन को हम सलाम करते हैं। साथ हीं इस किसान विरोधी सरकार से कहना चाहते हैं कि किसान और किसानों के आंदोलन को समर्थन करने वाले लोग झुकने वाले नहीं हैं। हम सभी प्रगतिशील लोग किसान भाइयों के आंदोलन को लगातार समर्थन करते रहेंगे।

IPTA के उमेश नजीर ने कहा कि किसान भाइयों का संघर्ष यह सरकार को समझ नहीं आने वाली है। क्यूंकि यह सरकार पूंजीपतियों के इशारे पर ही काम करती है।

सामाजिक कार्यकर्ता नदीम खान ने कहा कि हम लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। ऐसी तानाशाही सरकार के खिलाफ और हमारी लड़ाई जारी रहेगी। एआईएसएफ AISF के प्रदेश महासचिव लोकेश आनंद ने कहा कि हम छात्र किसान भाइयों के आंदोलन के साथ कदम से कदम मिलाकर आंदोलन करेंगे। लगातार किसान भाइयों की जाती जान की जिम्मेवार यह केंद्र की सरकार है।

सभा के बाद गांधी जी के प्रतिमा के समक्ष लोगों ने अपनी अपनी मोमबत्ती जलाकर और दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित किया।

इस मौके पर डॉ रवि भूषण, पंकज मित्रा, उपेन्द्र मिश्रा, एम जेड खान, जेवियर कुजूर, कुमार वरुण, श्रीनिवास, कुमार विनोद, किरण, प्रवीण परिमल, उपेंद्र सिंह, संजीव कुमार, मदन सिंह, अजय सिंह, फरजाना फारूकी, पंकज मित्र, कथाकार व लेखक रणेंद्र, जसम से नंदिता, कनक, प्रोफेसर अयूब, सरेसा, रौशन लिंडा, ओम बाल, नॉरीन अख्तर, शुभेन्दु सेन, रूपक राग, आकाश रंजन, अरविंद कुमार, यादव कुमार, आदि कई सामाजिक, प्रगतिशील, छात्र युवा आदि उपस्थित थे। (प्रगतिशील लेखक संघ के जारी प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित)

Related posts

रक्तदान आम जन तक पहुँचे, रांची

My Mirror

यूपीएससी 2019 का रिजल्ट घोषित प्रदीप सिंह हैं इस बार के टापर

My Mirror

कप्तान क्यों कर रहें हैं मनरेगा में मजदूरी

My Mirror

Leave a Comment