Business व्यापार विचार कॉलम

कारोबार में अख़लाक़ : नितिश कुमार

नितिश कुमार-

पुराने कारोबारियों की रिवायत थी कि वे सुबह दुकान खोलते ही एक छोटी-सी कुर्सी दुकान के बाहर रख देते थे। ज्यों ही पहला ग्राहक आता, दुकानदार कुर्सी को उस जगह से उठाकर दुकान के अंदर रख देता था।

लेकिन जब दूसरा ग्राहक आता तो दुकानदार बाज़ार पर एक नज़र डालता और यदि किसी दुकान के बाहर कुर्सी अभी भी रखी होती तो वह ग्राहक से कहता- “आपकी ज़रूरत की चीज़ उस दुकान से मिलेगी। मैं सुबह का आग़ाज़ (बोहनी) कर चुका हूँ”।
किसी कुर्सी का दुकान के बाहर रखे होने का अर्थ होता था कि अभी तक दुकानदार ने आग़ाज़ नहीं किया है।

यही वजह थी कि जिन ताजीरों (कारोबारियों) में ऐसा अख़लाक़ व मोहब्बत हुआ करती थी, उन पर बरकतों का नुज़ूल हुआ करता था।

आप पोस्ट पढ़ते वक़्त जमाने, भाषा, मुल्क या मज़हब पर ना जाइएगा, क्योंकि बात सनातन मूल्य की है। बात अच्छाई की है, सीखने की है और अच्छी बात के लिए काहे का मज़हबी सवाल या मुल्क का मसला। वैसे भी हम ‘जीयो और जीने दो’ वाली माटी के हैं जो पूरी दुनिया को एक परिवार मानती है। आप जानते ही हैं कि–

अयं निजः परो वेति गणना लघुचेतसाम्।
उदारचरितानां तु वसुधैव कुटुम्बकम् ॥ (महोपनिषद्,अध्याय ४,श्‍लोक ७१)

Related posts

‘No Time to Die’ trailer shot may have given a glimpse of the upcoming Nokia 8.2 5G smartphone

cradmin

अमेरिकी ब्रांड ‘हार्ले-डेविडसन’ बंद कर रही है भारत में कारोबार

My Mirror

This woman creates eco-friendly cotton pads for unpriviledged women at home

cradmin

Leave a Comment