Latest ताज़ा खबर

कप्तान क्यों कर रहें हैं मनरेगा में मजदूरी

आख़िर क्यों ? मजबूर हुए मनरेगा में पत्थर तोड़ने को इस क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान।

कोरोना महामारी के कारण कई टूर्नामेंट रद्द हो गए जिसकी वजह से कई नेशनल और स्टेट लेवल के खिलाड़ियों को मजबूरी में मजदूरी और सब्जी बेचनी पड़ रही है. उत्तराखंड व्हीलचेयर क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राजेंद्र सिंह धामी आजीविका के लिए मनरेगा में मजदूरी का काम करने के लिए मजबूर हैं.

विशेष रूप से विकलांग भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राजेंद्र सिंह धामी बल्लेबाजी, गेंदबाजी सहित क्रिकेट के विभिन्न पहलुओं में विशेष रूप से दिव्यांग किशोरों को प्रशिक्षित कर रहे हैं. उनका कहना है कि मैंने अपने जीवन में कई ‘दिव्यांग’ लोगों को तनाव में आशा खोते हुए देखा है. मैं भी कभी इसी अंधेरे में रहा हूं लेकिन मैंने हार नहीं मानी.

धामी दृढ़ संकल्प के साथ कहते हैं कि मैं अपने प्रयासों से दिव्यांग लोगों के जीवन को एक उद्देश्य देने पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं, जिस पर वह सभी पकड़ बना सकें और हमेशा के लिए एक तारे की तरह चमकते रहे. इन दिनों धामी महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के तहत सड़क के निर्माण में इस्तेमाल किए जाने वाले पत्थरों को तोड़ने का काम कर रहे हैं.

राजेंद्र भारतीय व्हीलचेयर क्रिकेट टीम के कप्तान रह चुके हैं जिनकी उम्र 30 साल है. वह इस समय उत्तराखंड व्हीलचेयर क्रिकेट टीम के कप्तान थे. राजेंद्र सिंह धामी 90% दिव्यांग हैं. धामी 3 साल की उम्र में लकवा ग्रस्त हो गए थे. इसके बावजूद हिम्मत न हारते हुए उन्होंने अपने प्रदर्शन से कई पुरस्कार जीते हैं. उनका कहना है कि मैं दिव्यांग बच्चों को प्रशिक्षित करता था और भविष्य के टूर्नामेंट की तैयारी के लिए खुद अभ्यास करता था लेकिन कोरोना महामारी ने सब कुछ रोक दिया.

Related posts

स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री मोदी ने दिया डेढ़ घंटे का भाषण

My Mirror

Onward movie review: Chris Pratt, Tom Holland and Disney Pixar will make you laugh and cry but not enough

cradmin

वर्ल्ड क्लास फिल्म सिटी यमुना एक्सप्रेसवे पर

My Mirror

Leave a Comment