Other

गणितानंद महाराज द्वारा “गणित मठ ” की स्थापना

भारत जो कि देवताओं की भूमि यानि देवभूमि रहा है, वहां असंख्य धार्मिक मठ हैं। जो भिन्न भिन्न पंथों के प्रचार प्रसार पर काम करते हैं। किन्तु आज हम आपको एक विशिष्ट तरह के मठ के बारे में बताने जा रहें हैं, यह मठ है “गणित मठ”। जी हां, एकदम सही सुना आपने और इसके संस्थापक हैं गणित गुरु श्री गणितानंद महाराज जी।

गणितानंद जी की गणित को लेकर एक अलग तरह की दीवानगी साफ नजर आती है। वह गणित को लेकर इतने ज्यादा गंभीर हैं कि उसके प्रचार प्रसार के लिए गणित मठ स्थापित कर दिए हैं। वह इस बात पर बहुत जोर देते हैं कि गणित का जीवन में कितना महत्व है! यह लोग जानेंगे तो भारत का भविष्य बहुत उज्जवल होगा। वह गणित के अध्यापकों को ट्रेनिंग देते हैं कि गणित को कैसे और बहुत आसान तरीके से सीखाया जाए, जिससे बहुत औसत विद्यार्थी भी गणित में अपनी रूचि दिखा सके।

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 26 जुलाई 2020 के ‘मन की बात’ में जो वेद व वैदिक विचार की बात की है, गणितगुरू गणितानंद जी के अनुसार यह विचार “वैदिक गणित के अध्ययन” के संदर्भ में मैंने चार वर्ष पहले कही है जो भारतीय मानस के हित में है।

गणित गुरु श्री गणितानंद जी का उद्देश्य गणित का प्रचार प्रसार घर घर तक पहुंचाना है, उन्होंने कई किताबें भी इस विषय पर लिखी है वह पूरे भारतवर्ष में गणित मठों की स्थापना करना चाहते हैं!

Related posts

Ramkumar pushes Cilic before defeat, Prajnesh bites dust, India trail 0-2 against Croatia

cradmin

रक्षाबंधन पर कोरोना का प्रभाव

My Mirror

” पुलिसिया कहर किसान ने बीवी संग पिया जहर”

My Mirror

Leave a Comment